Sayings of Maula Ali 03

Pages Listing Sayings of Maula Ali from the Nahjul Balaga







Maula Ali – In the Nahjul Balaga
No religious faith is loftier than feeling ashamed of doing wrong and bearing calamities patiently. Maula Ali – In the Nahjul Balaga संयम के समान कोई प्रतिष्ठा नहीं है। हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन

Saying 112.13 – Nahjul Balaga


Maula Ali – In the Nahjul Balaga
No worship or prayers are more sacred than fulfillment of obligations and duties. Maula Ali – In the Nahjul Balaga कर्तव्य को पूरा करने से बढ़ कर कोई इबादत नहीं है। हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन

Saying 112.12 – Nahjul Balaga




Maula Ali – In the Nahjul Balaga
No virtue is better than refraining from prohibited deeds. Maula Ali – In the Nahjul Balaga मना किए गए कामों की ओर से अवरुचि से बढ़ कर कोई संयम हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन

Saying 112.10 – Nahjul Balaga


Maula Ali – In the Nahjul Balaga
No abstinence is better than to restrain one’s mind from doubts (about religion). Maula Ali – In the Nahjul Balaga उपाय से बढ़ कर कोई बुद्धि नहीं है। मर्यादा व धैर्य से बढ़ कर कोई ईमान नहीं है। हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन

Saying 112.09 – Nahjul Balaga








Maula Ali – In the Nahjul Balaga
No companion can prove more useful than politeness. Maula Ali – In the Nahjul Balaga No companion can prove more useful than politeness. सदव्यवहार से अच्छा कोई साथी नहीं है। हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन

Saying 112.04 – Nahjul Balaga




Maula Ali – In the Nahjul Balaga
No solitude is more horrible than when people avoid you on account of your vanity and conceit or when you wrongly consider yourself above everybody to confide and consult Maula Ali – In the Nahjul Balaga अपने आप को पसंद करने से ज़्यादा डरावना कोई अकेलापन नहीं है। हज़रत अली […]

Saying 112.02 – Nahjul Balaga





Maula Ali – In the Nahjul Balaga
I wonder at the man who understands the marvel of genesis of creation and refuses to accept that he will be brought back to life again. Maula Ali – In the Nahjul Balaga   और मुझे उस पर आश्चर्य होता है कि जो पहली पैदाइश को देखता है मगर दोबारा […]

Saying 125.5 – Nahjul Balaga


Maula Ali – In the Nahjul Balaga
I wonder at the man who sees people dying around him and yet he has forgotten his end. Maula Ali – In the Nahjul Balaga   और मुझे उस व्यक्ति पर आश्चर्य होता है जो मृत्यु को भूले हुए है जबकि वह मरने वालों को देखता है। हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) […]

Saying 125.4 – Nahjul Balaga


Maula Ali – In the Nahjul Balaga
I wonder at the man who observes the Universe created by Allah and doubts His Being and Existence. Maula Ali – In the Nahjul Balaga और मुझे उस इंसान पर आश्चर्य होता है कि जो अल्लाह के होने में शक करता है जबकि वह उस के बनाए हुए संसार को […]

Saying 125.3 – Nahjul Balaga



I wonder at the arrogance of a haughty and vain person. Yesterday he was only a drop of semen and tomorrow he will turn into a corpse. Maula Ali – In the Nahjul Balaga     और मुझे अहंकारी पर आश्चर्य होता है क्यूँकि कल वह नुतफ़ा (वीर्य) था और […]

Saying 125.2 – Nahjul Balaga



हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन
When somebody asked Imam Ali as to how he was getting on, he replied: Maula Ali – In the Nahjul Balaga   हज़रत अली (अ.स.) से सवाल किया गया कि आप का क्या हाल है तो आप ने फ़रमायाः उस का क्या हाल होगा जिस की ज़िन्दगी उस को मौत […]

Saying 114 – Nahjul Balaga




हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन
Anyone who loves us Ahlul Bayt must be ready to face a life of austerity. Maula Ali – In the Nahjul Balaga जो हम अहलेबैत (अ.स.) से मुहब्बत करे उसे फ़क़ीरी का लिबास पहनने के लिए तैयार रहना चाहिए। हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन

Saying 111 – Nahjul Balaga